Friday, August 23, 2013

के भो किन भो ?

के भो, किन भो, नसोध यो दुःखी परानीलाइ
आगो कसरि निभ्यो के थाहा खरानीलाइ ?

शीर दुःख्यो ,शरीर दुःख्यो , बेस्सरी दुःख्यो
पीडा कति  भो, के थाहा िबिस्तर–सिरानीलाइ ?

छटपटी, छटपटी, मात्र छटपटी,
रात कसरी कट्यो, के थाहा बिहानीलाइ ?

प्यास छ, प्यास छ, अनन्त प्यास छ,
प्यासीको प्यासको जलन, के थाहा पानीलाइ ?

प्रेमप्रकाश मल्ल 'महेन्द्र मधुकर'
धम्बोझी -१, नेपालगंज, बाँके