Saturday, June 15, 2013

बात के काम !

पराइ सपना थेगि बस्ने निर्दयि ति हात के काम
प्रेम तृस्णा फगत  लाग्ने तिम्रा फजुल बात के काम !

खरानितन होइन यहाँ, चखेबि मन अतृप्त छ
मझेरिमै लत्याइ हिड्ने औपचारिक साथ के काम !!

बिछाउनु उतै बरू बिन्ति यता नजुधाउनु
पराइ कै धित मार्ने नजरको खात के काम !!!

नदेखेकै बेस होला, कथित सुन्दर चाँद सधैँ
अपूर्ण ख्वाब बोकि आउने निष्पट्ट ति रात के काम !!!!

नामसारि गरेहुन्छ पिडा जति यतै सारा
'हादिर्क' मनले नपस्कने, मुस्कानको खात के काम !!!!!


हरि शरण लामिछाने   "  हार्दिक  "
                                                                नेपालगंज,१,वाटरपार्क,धम्बोझि